Search This Blog

Friday, February 15, 2019

गर्व (लघुकथा)

पुलवामा में शहीद हुए सैनिकों की स्मृति में

साथियों बहुत दुखी मन से लिख रहा हू, कल पुलवामा में जिस तरह हमारे जवानों पर हमला किया गया, वह कृत्य निंदनीय ही नहीं बल्कि बदला लेने के योग्य है। यह लघुकथा कहते हुए कितनी ही बार आँसू आए और कितनी ही बार सूख भी गए। शहीद जवानों को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि देते हुए समर्पित...

गर्व (लघुकथा)


पूरे देश की जनता के रक्त में उबाल आ रहा था। एक आतंकवादी ने 200 किलोग्राम विस्फोटक एक कार में रखकर सेना के जवानों से भरी बस से वह कार टकरा दी और देश के 40 सैनिक शहीद हो गए थे।

सेना के हस्पताल में भी हड़कंप सा मच गया था। अपने दूसरे साथियों की तरह एक मेजर जिसके जवान भी शहीद हुए थे, बदहवास सा अपने सैनिकों को देखने हस्पताल के कभी एक बेड पर तो कभी दूसरे बेड पर दौड़ रहा था, अधिकतर को जीवित ना पाकर वह व्याकुल भी था। दूर से एक बेड पर लेटे सैनिक की आँखें खुली देखकर वह भागता हुआ उसके पास डॉक्टर को लेकर पहुंचा। डॉक्टर उस सैनिक की जाँच ही रहा था कि वह सैनिक अपने मेजर को देखकर मुस्कुराया। मेजर उसके हाथ को सहलाते हुए बोला, "जल्दी ठीक हो जाओ, सेना को तुम्हारी जरूरत है, अभी हमें बहुत कामयाबियाँ साथ देखनी हैं।"

कुछ समय पहले से ही होश में आया वह सैनिक आसपास हो रही बातों को भी सुन चुका था, वह फिर मुस्कुराया और इस बार उसकी मुस्कुराहट में गर्व भरा था। उसी अंदाज़ में वह सैनिक बोला, "सर... हम तो कामयाब हो गए... हमें दुश्मन का 200 किलो आरडीएक्स... बर्बाद करने में... कामयाबी मिली है।"

और मेजर के आँखों में भी गर्व आ गया


- डॉ. चंद्रेश कुमार छ्तलानी

16 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (16-02-2019) को "चूहों की ललकार." (चर्चा अंक-3249) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    शहीदों के नमन के साथ...।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत आभार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' जी।

      Delete
  2. रचिता सिंहFebruary 16, 2019 at 9:36 AM

    हृदयभेदती घटना पर अश्रुपूरित श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार रचिता सिंहFजी।

      Delete
  3. ufff...
    सर... हम तो कामयाब हो गए... हमें दुश्मन का 200 किलो आरडीएक्स... बर्बाद करने में... कामयाबी मिली है।
    Jai Hind ki sena

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत आभार भुवन जी।

      Delete
  4. एकता सुराणाFebruary 16, 2019 at 5:32 PM

    आँखें भर आईं बहुत मार्मिक कथा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार एकता सुराणाFजी।

      Delete
  5. जय हिन्द

    ReplyDelete
    Replies
    1. जय हिन्द संत जी।

      Delete
  6. हमें गर्व है अपनी सेना पर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका।

      Delete
  7. धर्मेश चौबेFebruary 17, 2019 at 7:39 PM

    मार्मिक

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका।

      Delete
  8. भावेश शुक्लाFebruary 17, 2019 at 9:01 PM

    हमारी सेना विश्व की बेहतरीन सेना

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा आपने भावेश जी, हार्दिक आभार आपका।

      Delete